December 8, 2022

छत्तीसगढ़ में भी होगा लॉकडाउन! संसदीय सचिव ने किया सीएम भूपेश से लॉकडाउन लगाने का आग्रह

रायपुर। मंत्रिमंडलीय बैठक से पहले संसदीय सचिव विकास उपाध्याय ने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल से कोरोना महामारी की दूसरी लहर और कोविड-19 के नए वैरिएंट्स को देखते हुए छत्तीसगढ़ में लॉकडाउन लगाने जैसे कठोर निर्णय पर विचार किये जाने का आग्रह किया है।

पढ़ें –HOLI 2021: होली के रंग में न पड़े कोई भंग इसलिए रखे इन 10 बातों का खास ध्यान

छत्तीसगढ़ में बहुत जल्द लॉकडाउन लगाने जैसे कठोर निर्णय पर विचार किया जाना चाहिए। उन्होंने कहा,होली के दौरान बरती गईं। असावधानियां कोरोना से निपटने में चुनौती बन सकती हैं। संसदीय सचिव विकास उपाध्याय ने लोगों से अपील की है कि वे अपने घरों में ही रहें और शांति से होली मनाएं।

पढ़ें- Shilpa Shetty Viral Video: शिल्पा शेट्टी का ये वीडियो हुआ सोशल मीडिया में जमकर वायरल, देखे वीडियो

संसदीय सचिव विकास उपाध्याय ने छत्तीसगढ़ में बढ़ते कोरोना के मामलों को रोकने जल्द से जल्द लॉकडाउन लगाए जाने की वकालत की है। उन्होंने आज शाम आहूत मंत्रि मंडलीय बैठक से पहले मुख्यमंत्री भूपेश बघेल से आग्रह किया है। छत्तीसगढ़ में लॉकडाउन लगाए जाने जैसे कठोर निर्णय पर प्रमुखता से विचार करने की जरूरत है।

पढ़ें- सेक्स रैकेट: स्पा सेंटर की आड़ में चल रहे देह व्यापार का भंडाफोड़ कर पुलिस ने किया व्यपारी, डॉक्टर और कारोबारी को गिरफ्तार

विकास ने कहा, बगैर लॉकडाउन के लोगों को रोका नहीं जा सकता। कितना भी कड़ाई से नियमों को पालन करने और सावधानी बरतने की अपील करें व्यवहारिक जीवन में ये नहीं हो सकता। हमें पुराने अनुभवों से सीखना चाहिए और समारोहों में जाकर सुपरस्प्रेडर बनने से बचना चाहिए पर ये सब हो नहीं रहा है।

पढ़े- देवर-भाभी का अवैध संबंध: अवैध संबंध के बीच रोड़ा बन रहे बड़े भाई को छोटे भाई ने ही लगा दिया ठिकाने

विकास उपाध्याय ने कहा,अक्सर देखा यह गया है कि जितने भी बड़े समारोह, त्योहार या सभाएं होती हैं उसके बाद कोविड के मामलों में बढ़ोतरी देखने को मिलती है, वहीं कोरोना वायरस के नए वैरिएंट्स भी सामने आ रहे हैं। हाल ही में डबल म्यूटेट वायरस भी मिला है। ये नए वैरिएंट्स ज्यादा संक्रामक हैं।

पढ़े- आधी रात प्रेमिका से मिलने पहुंचे प्रेमी को गांव वालों ने बनाया बंधक, और फिर निकाला जुलूस

होली में लोग मिलते-जुलते हैं, इकठ्ठा होते हैं और खाना-पीना होता है। ऐसे में सोशल डिस्टेंसिंग और मास्क लगाने जैसे नियमों का पालन नहीं हो पाता और यही वजहें हैं जो कोरोना वायरस की रफ्घ्तार को तेज कर देंगे।विकास ने कहा,कोरोना वायरस की पहली लहर में 50 हजार के आंकड़े छूते-छूते चार से पांच महीने लग गए लेकिन दूसरी लहर में एक महीने के अंदर भारत में मामले नौ हजार से 50 हजार पर पहुंच गए हैं।

पढ़े- BIG NEWS: 2 सगे भाइयों ने किया युवती से दुष्कर्म, एक गिरफ्तार दूसरा फरार

विकास ने कहा,छत्तीसगढ़ में लॉकडाउन लगा कर टीकाकरण अभियान को तेज किया जाना चाहिए।साथ ही मास्क व सोशल डिस्टेंसिंग जैसे नियमों के पालन के लिए भी जोर दिया जाना चाहिए।

Share this page to Telegram

You may have missed