April 12, 2024

पेट्रोल की बढ़ती कीमत और पर्यावरण को प्रदूषण से बचाने स्टूडेंट ने पुराने स्कूटर को बदला इलेक्ट्रिक स्कूटर में


सागर। कहते हैं कि आवश्यकता ही आविष्कार की जननी होती है। इस कहावत को पॉलिटेक्निक कालेज के स्टूडेंट ने चरितार्थ कर दिखाया है। उन्होंने तीन दशक पुराने मेकेनिकल स्कूटर को इलेक्ट्रिकल स्कूटर में बदलने में सफलता मिली है। इस इलेक्ट्रिक स्कूटर की सबसे बड़ी खासियत यह है कि इसे रोज-रोज चार्ज करने की जरूरत नहीं पड़ती। एक बार चार्ज करने पर यह 15 दिनों तक चलेगा। वहीं पेट्रोल के बढ़ते दाम से भी निजात मिलेगी। इस स्कूटर से ध्वनि और वायु प्रदूषण भी न के बराबर होगा। यह स्कूटर इको फें्रडली है।


पेट्रोल की बढ़ती कीमतों से आया आइडिया

पेट्रोल की दिनोंदिन बढ़ती कीमत और प्रदूषण को देखते हुए उनके दिमाग में यह आइडिया आया। सागर मकरोनिया के पद्माकर नगर में रहने वाले 18 साल के इंजीनियर हिमांशु भाई पटेल ने 29 साल पुरानी स्कूटर को ई-स्कूटर में बदल डाला है। हिमांशु के दादा ईश्वर भाई पटेल ने वर्ष 1991 में यह स्कूटर खरीदा था। ई-स्कूटर बनाने वाले हिमांशु गुजरात में एक पॉलिटेक्निक कालेज से इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग की पढ़ाई कर रहे हैं। वे सेकंड ईयर के स्टूडेंट है।

 

 


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed